बिलाड़ा: 1000 साल पुराने बरगद के पेड़ की शाखाएं टूटकर गिर रही अस्तित्व कायम रखने के लिए क्षेत्रवासियों ने पास ही लगाया नया पौधा

बिलाड़ा | लगभग एक हजार साल पुराने बरगद के पेड़ की शाखाएं लगातार टूट कर गिरती जा रही हैं। जड़ों में दीमक लगने से बरगद की जड़ें खोखली हो गई, इस कारण जड़ों से टूट कर गिरने लगा है। बरगद का ये पेड़ पिछले कई दिनों से लगातार टूट रहा है। वहीं क्षेत्रवासियों ने बरगद के पेड़ को गिरता देख उसके पास ही बरगद का पौधा लगाया व उसकी सुरक्षा के लिए पर्याप्त व्यवस्था भी की गई व नियमित पानी भी क्षेत्रवासियों द्वारा पिलाया जा रहा है। इस बरगद के पेड़ का धार्मिक महत्व भी है। यहां पर कई कार्यक्रम भी आयोजित होते है व महिलाओं द्वारा कई पर्वों पर पूजा-अर्चना की जाती है। इसके नीचे माताजी की मूर्ति भी स्थापित है।
Spread the love
मनोहर सीरवी (राठौड़)

About मनोहर सीरवी (राठौड़)

व्यवसाय : कमल भण्डार प्रोविजन स्टोर (मैसूर) राज्य : कर्नाटक जिला मैसूर,  मरूधर मे : बेरा नवोड़ा, गाँव जनासनी/सांगावास , तहसील : जैतारण, जिला-पाली राजस्थान
View all posts by मनोहर सीरवी (राठौड़) →