परिवार का महत्व क्यों भूलते जा रहे हैं लोग

रिश्तों की अहमियत  : आज भले ही संयुक्त परिवार की परम्परा खत्म होती जा रही है परंतु यह सच है कि संयुक्त परिवार से ही घर में खुशहाली आती हैं। बच्चे जहां एक-दूसरे के साथ अपने बड़ों से संस्कार सीखते हैं वहीं एक-दूसरे से स्नेह की भावना भी उनमें साथ रहते हुए ही पनपती है । इन सब में मुख्य भूमिका होती है, परिवार की महिलाओं की जो भावी पीढ़ी में विकास के बीज बोती हैं । आज भले ही संयुक्त परिवार खत्म हो गए हों परंतु घर को परिवार बनाने की जिम्मेदारी आज भी महिला की है। एक वही है जो घर के सदस्यों को जोड़ कर परिवार बनाती है ।  बच्चों को करवाएं रिश्तों की पहचान

 

अंतर्राष्ट्रीय फैमिली डे की शुरूआत भी शायद इसी मकसद से की गई है कि हम लोग जो अपनी जीवनशैली में परिवार का महत्व भूलते जा रहे हैं, उसे फिर से जान सकें तथा एक-दूसरे के साथ मिल कर समय बिता पाएं । यह दिन लोगों में संयुक्त परिवार की भावना को अधिक से अधिक मजबूत करने की एक कोशिश है जिसका महत्व आधुनिकता की भागदौड़ के बीच दिनोंदिन खत्म होता जा रहा है ।

 

कुटुंब की भावना
बड़ों को सम्मान देना, हर परिस्थिति में संयम रखना तथा परिवार में अपना सहयोग देना जैसी बातों को यदि एक महिला अपने परिवार के हर सदस्य में विकसित कर दे, तो दूर-दूर रहने पर भी संयुक्त परिवार की भावनाकायम रखी जा सकती है क्योंकि इस से संयुक्त उर्जा पनपती है जिससे दुख कम हो कर खुशियां बढ़ती हैं । सब लोग मन से एक-दूसरे के साथ हमेशा रहते हैं । इसके लिए एक कुटुंब की भावना होनी भी जरूरी है ।  ज्वाइंट फैमिली में रहने की डाल लें आदत, मिलेेंगे ये फायदे

हर एक का सम्मान
परिवार में हर सदस्य का मान-सम्मान कायम रहना बहुत जरूरी है, नहीं तो कलह की स्थिति उत्पन्न हो जाती है । विशेष तौर पर परिवार का केंद्र मानी जाने वाली महिला का सम्मान बेहद जरूरी होता है । फिर वह चाहे मां हो या पत्नी, बेटी हो अथवा बहन या फिर अन्य रिश्तेदार, यदि हम उनका सम्मान नहीं करेंगे तो परिवार में शांति की कल्पना करना भी व्यर्थ है । इसके अलावा परिवार में यदि एक दूसरे से अहंकार और ईर्ष्या रहेगी, तो रिश्ते तो टूटेंगे ही, साथ ही हम उन्हें हमेशा के लिए खो भी देंगे।

Spread the love
मनोहर सीरवी (राठौड़)

About मनोहर सीरवी (राठौड़)

व्यवसाय : कमल भण्डार प्रोविजन स्टोर (मैसूर) राज्य : कर्नाटक जिला मैसूर,  मरूधर मे : बेरा नवोड़ा, गाँव जनासनी/सांगावास , तहसील : जैतारण, जिला-पाली राजस्थान
View all posts by मनोहर सीरवी (राठौड़) →